0
जिनका जन्म 5, 14, 23 तारीख को हुआ है उनका मूलांक 5 है। इनके जीवन का प्रतिनिधित्व बुध ग्रह करता है। ये विलक्षण तार्किक बुद्धि के होते हैं। इनको प्रभावित करना कठिन है। मित्र बनाने में इनका कोई शानी नहीं है। ये आजीवन मित्रता का निर्वहन करने वाले होते हैं। नित्य नई सूझ-बूझ, युक्तियां, विचार, तर्क, कल्पनाएं संजोने में ये सिद्धहस्त होते हैं। सतत क्रियाशीलता इनका गुण है। ये विचार प्रधान व्यक्ति होते हैं। शरीरिक श्रम की अपेक्षा मानसिक श्रम ज्यादा करते हैं। साहस, हिम्मत और आत्मविश्वास के बल पर जीने वाले होते हैं। ये नौकरी की अपेक्षा व्यवसाय में ज्यादा सफल होते हैं।
विवेचना- स्वामी ग्रह- बुध। श्रेष्ठ प्रभाव- 21 मई से 22 जून तथा 21 अगस्त से 20 सितम्बर के मध्य उत्पन्न जातक। श्रेष्ठ तारीखें- 5, 14, 23। उन्नत समय- 21 मई से 21 जून, 21 अगस्त से 20 सितम्बर। निर्बल समय- मई, सितम्बर, दिसम्बर। शुभ दिन- बुध, सोम, गुरु, शुक्र। सर्वोत्तम दिन- बुधवार। शुभ रंग- हल्का खाकी, सफेद, चमकीला, उज्ज्वल, हरा। शुभ रत्न- पन्ना। रोग- फ्लू, लू लगना, जुकाम, स्नायु निर्बलता, मस्तिष्क रोग, ब्लडप्रेशर, चर्मरोग। श्रेष्ठ वर्ष- 5, 14, 23, 32, 41, 50, 59, 68। देव- भगवान लक्ष्मीनारायण। व्रत- पूर्णिमा, रविवार। दान पदार्थ- पन्ना, स्वर्ण, मूंगा, कांस्य पात्र, हरा वस्त्र, घृत, शक्कर, कर्पूर, हाथी दांत, पंचरत्न। विवाह श्रेष्ठता- 15 अगस्त से 14 सितम्बर, 15 मार्च से 15 अप्रैल व 15 जनवरी से 14 फरवरी के मध्य जन्मे जातकों से। मित्र अंक- 1, 3, 4, 5, 7, 8। शत्रु अंक- 2, 6, 9। व्यवसाय- तार, टेलीफोन विभाग, ज्योतिष, सेल्समैन, बीमा, बैंकिंग, बजट, निर्माण, रेलवे, इंजीनियरिंग, संपादन, तम्बाकू, लेखन, पत्रकारिता, राजनीति, पुस्तक, ट्रांसपोर्ट, पर्यटन आदि। अनुकूल दिशा- उत्तर-पूर्व, उत्तर-पश्चिम। अशुभ दिशा- दक्षिण-पश्चिम। धातु- सुवर्ण, प्लेटिनम।

आचार्य शरदचंद्र मिश्र

keyword:ank-jyotish

नोट- इस वेबसाइट की अधिकांश फोटो गुगल सर्च से ली गई है, यदि किसी फोटो पर किसी को आपत्ति है तो सूचित करें, वह फोटो हटा दी जाएगीा

Post a Comment

gajadhardwivedi@gmail.com

 
Top