0
पृथ्वी सूर्य की परिक्रमा करने में प्रतिदिन 1 अंश के निकट आगे बढ़ती है। यह पूरे वर्ष में 365 दिन 5 घंटे 49 मिनट का समय लेकर सूर्य की परिक्रमा करती है। पृथ्वी का झुकाव उत्तर-दक्षिण सीधा नहीं है। यह उत्तर दिशा से पूर्व दिशा की ओर 23 अंश 26 कला झुकी हुई है। यह झुकाव पूरे साल एक ही ओर रहता है। इस कारण जब पृथ्वी का सिरा उत्तर की ओर रहता है तो दक्षिण ध्रुव में छह महीने के लिए रात होती है और जब पृथ्वी का सिरा दक्षिण की ओर रहता है तो उत्तरी ध्रुव में छह महीने के लिए रात हो जाती है। इस झुकाव के कारण सूर्य परिक्रमा का पथ उसी प्रकार अण्डाकार है जिस प्रकार हमारी आकाश गंगा।
आचार्य शरदचंद्र मिश्र

सांपातिक काल जानने के लिए इस लिंक पर क्लिक करें


keyword: siddhant-jyotish

नोट- इस वेबसाइट की अधिकांश फोटो गुगल सर्च से ली गई है, यदि किसी फोटो पर किसी को आपत्ति है तो सूचित करें, वह फोटो हटा दी जाएगीा

Post a Comment

gajadhardwivedi@gmail.com

 
Top