0
बृहस्पति के वृष में प्रवेश के समय से शुरू हुआ उत्पात थमने का नाम नहीं ले रहा हैं। इसी बीच इस वर्ष का एकमात्र दृश्य चंद्रग्रहण पृथ्वी पर तबाही लाने का कुचक्र रच रहा है। चंद्र ग्रहण के समय सभी ग्रह पाप प्रभाव (राहु-केतु) के बीच में आ गए हैं। एक बृहस्पति बाहर है तो वह भी वृष का होकर अष्टम भाव में बैठा है। कहीं से भी शुभ के आसार नहीं बन रहे हैं। चंद्रग्रहण 25 अप्रैल की रात 1.22 बजे से 1.53 बजे तक लगेगा।
ज्योतिषाचार्य अरविन्द सिंह के अनुसार चंद्र ग्रहण तुला लग्न में लग रहा है तथा उस समय मकर लग्न होगा। तुला लग्न में चंद्रमा, शनि व राहु हैं। तुला में शनि उच्चत का है लेकिन बक्री होने व राहु के पाप प्रभाव के कारण उसका कोई लाभ पृथ्वीवासियों को नहीं मिलने वाला है। तुला राशि पर ग्रहण के कारण शुक्र की स्थिति अत्यधिक कमजोर है क्योंकि तुला व वृष राशि स्वामी शुक्र, सूर्य, मंगल व केतु के साथ मेष राशि में बैठकर स्वयं अस्त की स्थिति में है। उसकी एक राशि वृष में बृहस्पति विराजमान है जो शुक्र का शत्रु है। इसकी दूसरी राशि तुला में राहु, शनि, चंद्र के साथ ग्रहण लग रहा है। इस प्रकार दोनों राशियों के साथ शुक्र स्वयं भी पीड़ित हो गया है। सप्तम भाव में सूर्य के साथ पड़कर मंगल, केतु व शुक्र अस्त हैं। इसके अलावा सप्तम स्थान में शनि व राहु की सप्तम दृष्टि पड़ने से शुक्र के साथ सूर्य, मंगल, व केतु भी पीड़ित हैं। बुध मीन राशि में बैठकर नीच का हो गया है। इस प्रकार सूर्य, चंद्र, मंगल, बुध, शुक्र पर पूर्ण पाप प्रभाव पड़ रहा है। ले दे कर बचा एक गुरु अपने शत्रु की राशि में बैठकर स्वयं कमजोर हो गया है। इस प्रकार सभी ग्रहों पर पाप प्रभाव पड़ने से ग्रहण काल के समय व उसके आगे-पीछे तक पृथ्वी व पृथ्वीवासियों पर इसका दुष्प्रभाव पड़ सकता है।
सभी ग्रहों के पाप प्रभाव में आने से पृथ्वी के किसी भी भाग में अग्नि से, जल से या भूकंप आदि जन-धन की हानि हो सकती है। आकाशीय बिजली, वर्षा, तेज हवा, तूफान, रेल व जहाज दुर्घटनाएं, सुनामी, भू-स्खलन आदि की आशंकाएं बलवती हो गई हैं। आग्नेय अस्त्रों का प्रयोग भी किया जा सकता है। सबसे ज्यादा आशंका सुनामी का है क्योंकि ग्रहण चंद्रमा पर लग रहा है और पानी व समुद्र का सीधा संबंध चंद्रमा से है। चंद्रमा मन का भी कारक ग्रह है, इसलिए राजनेताओं या आम आदमी में पागलपन की स्थिति उत्पन्न हो सकती है।

keyword: chandra grahan

नोट- इस वेबसाइट की अधिकांश फोटो गुगल सर्च से ली गई है, यदि किसी फोटो पर किसी को आपत्ति है तो सूचित करें, वह फोटो हटा दी जाएगीा

Post a Comment

gajadhardwivedi@gmail.com

 
Top