3
शुक्र ग्रह से स्त्री, आभूषण, वाहन, व्यापार तथा सुख का विचार किया जाता है। शुक्र ग्रह अशुभ स्थिति में हो तो कफ, बात, पित्त विकार, उदर रोग, वीर्य रोग, धातु क्षय, मूत्र रोग, नेत्र रोग आदि हो सकते हैं। यह सप्तम भाव अर्थात दामपत्य सुख का कारक ग्रह है।
पौराणिक मान्यताओं के अनुसार शुक्र दैत्यों के गुरु हैं। ये सभी विद्याओं व कलाओं के ज्ञाता हैं। ये संजीवनी विद्या के भी ज्ञाता हैं। यह ग्रह आकाश में सूर्योदय से ठीक पहले पूर्व दिशा में तथा सूर्यास्त के बाद पश्चिम दिशा में देखा जाता है। यह कामेच्छा का प्रतीक है तथा धातु रोगों में वीर्य का पोषक होकर स्त्री व पुरुष दोनों के जनानांगों पर प्रभावी रहता है। ज्योतिष शास्त्र में शुक्र ग्रह बुध, शनि व राहु से मैत्री संबंध रखता है। सूर्य व चंद्रमा से इसका शत्रुवत संबंध है। मंगल, केतु व गुरु से सम संबंध है। यह मीन राशि में 27 अंश पर परमोच्च तथा कन्या राशि में 27 अंश पर परम नीच का होता है। तुला राशि में 1 अंश से 15 अंश तक अपनी मूल त्रिकोण राशि तथा तुला में 16 अंश से 30 अंश तक स्वराशि में स्थित होता है। इसका तुला राशि से सर्वोत्तम संबंध, वृष तथा मीन राशि से उत्तम संबंध, मिथुन, कर्क व धनु राशि से मध्यम संबंध, मेष, मकर, कुंभ से सामान्य व कन्या तथा वृश्चिक राशि से प्रतिकूल संबंध है।
भरणी, पूर्वा फाल्गुनी, पूर्वाषाढ़ नक्षत्र पर इसका आधिपत्य है। यह अपने स्थान से सप्तम भाव पर पूर्ण दृष्टि डालता है। शुक्र जातक को ललित कलाओं, पर्यटन और चिकित्सा विज्ञान से जोड़ता है। यदि यह कुण्डली सर्वाधिक प्रभावकारी ग्रह के रूप में होता है तो शिक्षा के क्षेत्र में पदाधिकारी, कवि, लेखक, अभिनेता, गीतकार, संगीतकार, वाद्ययंत्रों का निर्माता, श्रृंगार का व्यवसायी बनाता है। यदि यह जन्मपत्रिका में सप्तम या 12वें भाव में वृष राशि में स्थित रहता है तो यह प्रेम में आक्रामक बनाता है। ये दोनों भाव विलासिता के हैं। यदि यह लग्न में है और शुभ प्रभाव से युक्त है तो व्यक्ति को बहुत सुन्दर व आकर्षक बनाता है। शुक्र ग्रह पत्नी का कारक ग्रह है। यदि यह सप्तम भाव में रहकर पाप प्रभाव में हो और सप्तमेश की स्थिति भी उत्तम न हो तो पत्नी को रुग्ण या पत्नी के आयु की हानि करता है। तीसरे भाव पर यदि शुक्र है और स्वगृही या मित्रगृही हो तो व्यक्ति को दीर्घायु बनाता है। यह भाव भाई का स्थान होने से और शुक्र स्त्रीकारक ग्रह होने से बहनों की संख्या में वृद्धि करता है। यदि शुक्र द्वितीय यानी धन व परिवार भाव में उत्तम स्थिति में बैठा है तो व्यापार से तथा स्त्री पक्ष अर्थात ससुराल से आर्थिक सहयोग मिलता है। यदि उत्तम स्थिति में नहीं होता है तो व्यापार में हानि कराता है तथा ससुराल वाले ही जातक का धन हड़प लेते हैं। 11वें भाव में वृष राशिगत शुक्र के बलवान होने से वाहन सुख अच्छा रहता है। शुक्र बारहवें भाव में पापग्रह के साथ हो तो अपनी दशा में धनहानि कराता है। ज्योतिष ग्रंथों में बारहवें स्वस्थ शुक्र की बड़ी महिमा बताई गई है। इस भाव में स्वस्थ शुक्र बड़ी उन्नति प्रदान करता है। साथ ही शुक्र की दशा बहुत फलवती व पूर्ण धन लाभ देने वाली होती है। सप्तम स्थान में पाप प्रभाव युक्त शुक्र जातक को कामुक बनाता है। ऐसा जातक विवाहित होने पर भी अन्य स्त्रियों से शरीरिक संबंध बनाता है। यदि शुक्र बलवान है और चतुर्थ भाव में गुरु की दृष्टि हो अथवा गुरु चतुर्थ में स्थित हो तो व्यक्ति भू‍मि, धन-संपत्ति से युक्त, विभिन्न वाहनों से युक्त, धनी व माननीय बनाता है। यदि शुक्र बलहीन होता है तो व्यक्ति अचानक भाग्यहीन हो जाता है। यदि दशम भाव में शुक्र होता है तो अपनी दशा में नौकरी और संपूर्ण सुविधाओं को प्रदान करता है। शुक्र राहु के प्रभाव में यदि रहता है तो हानि प्रदान करता है।
आचार्य शरदचंद्र मिश्र, 430 बी आजाद नगर, रूस्तमपुर, गोरखपुर

keyword: jyotish, shukra grah

नोट- इस वेबसाइट की अधिकांश फोटो गुगल सर्च से ली गई है, यदि किसी फोटो पर किसी को आपत्ति है तो सूचित करें, वह फोटो हटा दी जाएगीा

Post a Comment

gajadhardwivedi@gmail.com

 
Top