0
श्रीकृष्ण जन्माष्टमी 28 अगस्त को परंपरागत रूप से आस्था व श्रद्धा के साथ धूमधाम से मनाई जाएगी। इस बार श्रीकृष्ण जन्माष्टमी पर जयंती नामक योग बन रहा है। यह दुर्लभ योग 19 वर्षों के बाद आया है। दिन, तिथि, नक्षत्र, योग, करण सब वही आ रहे हैं जो श्रीकृष्ण जन्म समय थे। इसे लेकर श्रद्धालुओं मं् खासा उत्साह है कि यह ‘जयंती योग’ श्रीकृष्ण जैसा बेटा दे सकता है।
ज्योतिषाचार्य पं. शरदचंद्र मिश्र के अनुसार 28 अगस्त (बुधवार) को सूर्योदय 5.41 बजे और अष्टमी तिथि का मान 58 दंड 40 पला अर्थात् संपूर्ण दिन व रात्रि पर्यंत अष्टमी तिथि रहेगी। कृतिका नक्षत्र 23 दंड 48 पला अर्थात दिन में 3.12 बजे तक है। इसके बाद रोहिणी लगेगा। अर्द्धरात्रि के समय रोहिणी नक्षत्र व अष्टमी तिथि दोनों है। श्रीमद्भागवत व भविष्य आदि पुराणों के अनुसार भगवान श्रीकृष्ण का जन्म भाद्रपद अष्टमी तिथि, बुधवार, रोहिणी नक्षत्र एवं वृष के चंद्रमा कालीन अर्द्धरात्रि में हुआ था- ‘मासि भाद्रपदे अष्टम्यां कृष्णपक्षेऽर्द्ध रात्रके। वृष राशि स्थितो चन्द्रे नक्षत्रे रोहिणी युते।। (भविष्य पुराण)’। श्रीकृष्ण जन्माष्टमी पर्व के समय छहों तत्वों- भाद्रपद मास, कृष्ण पक्ष, अर्द्धरात्रिकाल, अष्टमी तिथि, रोहिणी नक्षत्र, वृष का चंद्रमा व बुधवार या सोमवार की विद्यमानता बड़ी कठिनता से प्राप्त होती है। इस वर्ष 28 अगस्त को इन सभी तत्वों का दुर्लभ योग बन रहा है। ऐसा योग 19 वर्षों के बाद मिल रहा है। 1 सितम्बर 2010 में भी जयंती योग था लेकिन उदयकालीन तिथि सप्तमी थी और निशीथ व्यापिनी अष्टमी का योग था। 29 अगस्त 1994 में उदयकालीन तिथि अष्टमी और रात्रिव्यापिनी अष्टमी का योग रहा है, जो इस वर्ष भी मिल रहा है।
आचार्य शरदचंद्र मिश्र के अनुसार जन्म-जन्मांतरों में पुण्य संचय से ऐसा योग मिलता है। जिस मनुष्य को जयंती उपवास का सौभाग्य मिलता है, उसके कोटि जन्मों के पाप नष्ट हो जाते हैं तथा जन्म-बंधन से मुक्त होकर वह परम दिव्य वैकुण्ठादि भगवद्धाम में निवास करता है। वायु पुराण में कहा गया है कि जन्माष्टमी पापों का समूल नाश करती है। जो लोग जन्माष्टमी व्रत करते हैं वे अपने कुल की 21 पीढ़ियों का उद्धार करते हैं।

keyword: hindu, kishana janmashtami

नोट- इस वेबसाइट की अधिकांश फोटो गुगल सर्च से ली गई है, यदि किसी फोटो पर किसी को आपत्ति है तो सूचित करें, वह फोटो हटा दी जाएगीा

Post a Comment

gajadhardwivedi@gmail.com

 
Top