0
इस वर्ष संवत 2072 में चांद्र आषाढ़ मास अधिक मास। इस मास की कालावधि 17 जून से 16 जुलाई तक रहेगी।
सूर्य सिद्धांत, सिद्धांत शिरोमणि, ब्रह्म सिद्धांत आदि ग्रंथों के अनुसार जिस चांद्र मास में सूर्य संक्रांति का अभाव हो, उस चांद्र मास को अधिक मास या पुरुषोत्तम मास या मलमास कहते हैं। आचार्य चंडेश्वर के अनुसार यदि दो अमावस्याओं के अंतर सूर्य की संक्रांति न हो तो उक्त मास को मलमास कहते हैं। इस मास में समस्त शुभ कार्य नहीं करने चाहिए। ज्योतिषीय गणनानुसार एक सौर वर्ष 365 दिन 6 घंटे व 11 सेकेंड का होता है। जबकि चांद्र वर्ष 354 दिन व 9 घंटे का होता है। सौर वर्ष व चांद्र वर्ष तथा सौर मास व चांद्र मास के बीच सामंजस्य स्थापित करने के लिए ही भारतीय शास्त्रकारों द्वारा अधिक मास की परिकल्पना की गई है। पुरुषार्थ चिंतामणि के अनुसार एक अधिक मास से दूसरे अधिक मास तक की अवधि 28 मास से 36 मास के भीतर होना संभव है। यह माह व्रत, उपवास व दान आदि के लिए सर्वश्रेष्ठ माना जाता है।

Keywords: hindu

नोट- इस वेबसाइट की अधिकांश फोटो गूगल खोज से ली गई हैं, यदि किसी फोटो पर किसी को कॉपीराइट विषय पर आपत्ति है तो सूचित करें, वह फोटो हटा दी जाएगी।

Post a Comment

gajadhardwivedi@gmail.com

 
Top