0
प्रत्याहार का अर्थ है इंद्रियों को उनके बाह्य विषयों से खींचकर हटाना और उन्हें मन के वश में करना। जब इंद्रिय पूर्ण रूप से मन के वश में हो जाती है तब वह अपने स्वाभाविक विषयों से हटकर मन की ओर लग जाती है। इसके लिए अत्यंत दृढ़ संकल्प और प्रौढ़ इंद्रिय निग्रह की साधना आवश्यक है।
-आचार्य शरदचंद्र मिश्र

Keywords: yoga

नोट- इस वेबसाइट की अधिकांश फोटो गूगल खोज से ली गई हैं, यदि किसी फोटो पर किसी को कॉपीराइट विषय पर आपत्ति है तो सूचित करें, वह फोटो हटा दी जाएगी।

Post a Comment

gajadhardwivedi@gmail.com

 
Top