1
योग का अर्थ है चित्तवृत्ति का निरोध। योग का अर्थ है स्वयं के यथार्थ स्वरूप का ज्ञान कराना जिससे मानसिक विकारों से पृथक समझा जा सके। यह तभी हो सकता है जब चित्त की वृत्तियों का निरोध हो। चित्त की वृत्तियों का निरोध करने के लिए योग के अष्टांग साधन हैं- यम, नियम, आसन, प्राणायाम, प्रत्याहार, धारणा, ध्यान व समाधि। इन्हें साधना पड़ता है।
आचार्य शरदचंद्र मिश्र, 430 बी आजाद नगर, रूस्तमपुर गोरखपुर
Keywords: yoga

नोट- इस वेबसाइट की अधिकांश फोटो गूगल खोज से ली गई हैं, यदि किसी फोटो पर किसी को कॉपीराइट विषय पर आपत्ति है तो सूचित करें, वह फोटो हटा दी जाएगी।

Post a Comment

  1. Citta vrtti nirodha means complete and absolute tranquility, resoluteness and steadfastness.
    It does not mean Yoga. Yoga comes much later.
    Kindly understand it carefully.

    ReplyDelete

gajadhardwivedi@gmail.com

 
Top