0
अंक विद्यानुसार वर्ष 2016 के अंकों का कुल योग 9 आता है। अंक 9 मंगल ग्रह का प्रतिनिधित्व करता है। अर्थात वर्ष 2016 में मंगल का प्रभाव अधिक रहेगा। अंक 9 का संबंध हनुमानजी से भी है। इसलिए हनुमानजी की उपासना से शुभत्व में वृद्धि और अशुभता का नाश किया जा सकता है। हनुमानजी, मंगल ग्रह की उपासना, जप, हवन इत्यादि से सुख, समृद्धि और शांति प्राप्त की जा सकती है।
मूलांक 1 व उसका फल: जिन व्यक्तियों का जन्म 1, 10, 19 व 28 तारीख को हुआ है उनका मूलांक 1 है। मूलांक 1 का स्वामी सूर्य है जो जीवन शक्ति का प्रतीक है। यह वर्ष मूलांक एक वालों के लिए रचनात्मक रहेगा। अधिकारियों, प्रभावशाली व्यक्तियों से संपर्क बढ़ेगा। सूर्य मूलांक 9 का मित्र है इसलिए संतान पक्ष में सफलता देगा। नौकरी, व्यवसाय में प्रगति के अवसर मिलेंगे। लंबी यात्रा व सरकारी यात्रा लाभप्रद रहेगी। प्रत्येक माह की 20 व 28 तारीख की यात्रा या किसी परिवर्तन के लिए शुभ है।
मूलांक 2 का फल: जिन व्यक्ति का जन्म 2,11, 20, 29 तारीख को हुआ है उनका मूलांक 2 है। इसका स्वामी चंद्रमा है। इस मूलांक के व्यक्तियों के लिए परिवार, स्वास्थ्य एवं आर्थिक स्थिति में सुधार होगा। ये सकारात्मक सोच में सफलता पाएंगे। प्रगति के पथ पर अग्रसर होंगे। अंक स्वामी 2 भी वर्ष मूलांक 9 का मित्र है, इसलिए व्यावसायिक क्षेत्र में परिवर्तन के साथ उन्नति होगी। शिक्षा क्षेत्र में परिश्रम से सफलता मिलेगी, यात्रा लाभ, विदेश व लंबी यात्रा के योग हैं। यात्रा या किसी तरह के परिवर्तन के लिए 20 व 26 तारीखें लाभ देंगी। प्रत्येक महीने की 2, 4, 6, 8, 11, 16, 20, 22, 29 तथा 30 तारीखें शुभ और प्रभावशाली रहेंगी।
मूलांक 3 व उसका फल: जिन व्यक्तियों का जन्म 3, 12, 21, 30 तारीख को हुआ है उनका मूलांक 3 है। इसका स्वामी वृहस्पति है। यह वर्ष प्रगति एवं पदोन्नति, कार्य क्षेत्र में विस्तार, राजनीतिक संपर्क व व्यवसाय के लिए लाभकारी होगा। नई नौकरी या व्यवसाय के अवसर प्राप्त होंगे। आवेश, शराब, स्वभाव में रूखापन से प्रतिकूल प्रभाव होगा। देशी-विदेशी यात्रा के अवसरों से लाभ, चुनाव में लाभ, महत्वपूर्ण व्यक्तियों का सहयोग, वांछित कार्य पूर्ण होंगे। धन आगमन व मधुर संबंध बनेंगे परन्तु स्वास्थ्य में उतार-चढ़ाव, व्यापार में उन्नति व कार्य क्षेत्र में प्रभाव बढ़ेगा। 3, 6, 9, 12, 18, 21, 24 तारीखें लाभकारी सिद्ध होंगी। यात्रा के लिए विशेषकर 18 व 30 तारीखें शुभ रहेंगी।
मूलांक 4 व उसका फल: जिन व्यक्तियों का जन्म 4, 13, 22, 31 तारीख को हुआ है उनका मूलांक 4 है। इसका स्वामी राहु है। राहु अंक 9 का शत्रु है इसलिए इस वर्ष उतार-चढ़ाव के योग हैं। ज्यादा परिश्रम से उपलब्धियां मिलेंगी लेकिन असंतोष बना रहेगा। पत्नी से वैचारिक मतभेद, दाम्पत्य जीवन में कुछ कष्ट रहेंगे। रोजगार के साधन मिलेंगे लेकिन सुगमता से नहीं। यात्रा में सतर्कता बरतें। प्रत्येक बुधवार लाभदायक रहेगा। 2, 4, 8, 16, 22 व 26 तारीखें शुभ हैं।
मूलांक 5 व उसका फल: जिन व्यक्तियों का जन्म 5, 14, 23 तारीख को हुआ है उनका मूलांक 5 है। इसका स्वामी बुध है। यह वर्ष के मूलांक 9 का शत्रु का है परन्तु यह सौम्य अंक है। बुद्धि, विवेक, युक्ति एवं प्रतिभा से किए गए कार्यों में सफलता व लाभ। वाणी की कठोरता से मित्रों और संबंधियों से मतभेद, सामाजिक क्षेत्र में उलझन, व्यवसाय में उतार-चढ़ाव, दीर्घकालिक योजनाओं में लाभ, स्थान परिवर्तन का भय, गृह सुख मिलेगा। कठिन परिश्रम से प्रतियोगी परीक्षाओं और साक्षात्कार में लाभ। स्वास्थ्य के प्रति सचेत रहें। बुधवार व शनिवार का दिन शुभ रहेगा। 5, 14 व 23 तारीख को यात्रा व महत्वपूर्ण कार्यों में लाभ।
मूलांक 6 व उसका फल: जिन व्यक्तियों का जन्म 6, 15, 24 तारीख को हुआ है उनका मूलांक 6 है। इसका स्वामी शुक्र है। इस मूलांक वाले व्यक्तियों के लिए यह वर्ष मिला-जुला फल देगा। घर में स्त्रियों को महत्व देने से लाभ, अपमान करने से हानि की संभावना है। यात्रा में आंशिक लाभ, घर में सुख-सुविधा का सामान नियोजित करने में कुछ अवरोध, कार्य व्यवसाय में मंदी, विद्यार्थियों का अपेक्षित अंक प्राप्ति में न्यूनता। आर्थिक स्थित अस्थिर, अचानक अस्वस्थता, खर्च बढ़ेगा। सहयोगियों से कम सहयोग, प्रेम संबंधों में कुछ परेशानी आएगी परन्तु अल्प काल के लिए होगी। सोमवार, बुधवार लाभदायक। 6, 15, 24, 30 तारीखें शुभ।
मूलांक 7 व उसका फल: जिन व्यक्तियों का जन्म 7, 16, 25 तारीख को हुआ है उनका मूलांक 7 है। इसका स्वामी केतु है। यह मूलांक 9 का मित्र है। केतु का स्वभाव मंगल जैसा होता है। आर्थिक लाभ हेतु यात्रा करेंगे। आर्थिक स्थिति में संघर्ष के बाद मोड़ तथा लाभ आएगा। संतान सुख, संपत्ति, वाहन सुख की प्राप्ति। सुगर, मूत्र विकार, जोड़ों के दर्द की शिकायत, कुछ उतार-चढ़ाव के बाद अनुकूलता। 7, 14, 16, 25 तारीखें लाभदायक। यात्रा एवं किसी तरह के परिवर्तन के लिए 14 तारीख शुभ रहेगी।
मूलांक 8 व उसका फल: जिन व्यक्तियों का जन्म 8, 17 व 26 तारीख को हुआ है उनका मूलांक 8 है। इसका स्वामी शनि है। शनि व वर्ष मूलांक एक-दूसरे के शत्रु हैं। इसलिए वर्ष प्रतिकूल हो सकता है। विगत चले आ रहे कार्यों में कुछ अवरोध आ सकते हैं। काफी दांव-पेंच से व्यापारिक परिस्थितियां अनुकूल होंगी। संबंधों में दरार आ सकती है। मित्र भी कम सहयोग करेंगे। घर में शुभ कार्य के लिए काफी भाग-दौड़ का सामना करना पड़ेगा। 4, 8, 17 व 26 तारीखें शुभ हैं। शुक्रवार व शनिवार का दिन अनुकूल रहेगा।
मूलांक 9 व उसका फल: जिन व्यक्तियों का जन्म 9, 18 व 27 तारीख को हुआ है उनका मूलांक 9 है। इसका स्वामी मंगल है। धन, नौकरी एवं व्यवसाय में प्रगति। महत्वपूर्ण व्यक्ति से मुलाकात। जीवन में महत्वपूर्ण मोड़ आएगा और नया रास्ता प्रशस्त होगा। सोमवार, रविवार व गुरुवार शुभ दिन हैं। 6, 15, 18, 24 व 30 तारीखें शुभ हैं।
आचार्य शरदचंद्र मिश्र, 430 बी, आजाद नगर, रूस्तमपुर, गोरखपुर

Keywords: jyotish, ank jyotish

नोट- इस वेबसाइट की अधिकांश फोटो गूगल खोज से ली गई हैं, यदि किसी फोटो पर किसी को कॉपीराइट विषय पर आपत्ति है तो सूचित करें, वह फोटो हटा दी जाएगी।

Post a Comment

gajadhardwivedi@gmail.com

 
Top