1
प्राचीन भारत के धर्मों में जैन धर्म का महत्वपूर्ण एवं विशिष्ट स्थान है। यह भारत का प्राचीनतम धर्म है। जैन धर्म में 24 तीर्थंकर हुए। ऋषभदेव इसके प्रथम व महावीर स्वामी 24वें व अंतिम तीर्थंकर थे। छठीं शताब्दी ईसा पूर्व में महावीर स्वामी ने इसका व्यापक प्रचार-प्रसार किया।
24 तीर्थंकर
ऋषभदेव, अजितनाथ, संभवनाथ, अभिनंदननाथ, सुमतिनाथ, पद्मप्रभु, सुपार्श्वनाथ, चंद्रप्रभु, सुविधिनाथ, शीतलनाथ, श्रेयांसनाथ, वासुपूज्य, विमलनाथ, अनंतनाथ, धर्मनाथ, शांतिनाथ, कुंथनाथ, अरहरनाथ, मल्लिनाथ, मुनिसुव्रतनाथ, नेमिनाथ, अरिष्टनेमि, पार्श्वनाथ, महावीर स्वामी।
महावीर स्वामी
महावीर स्वामी का जन्म वैशाली के निकट कुण्डग्राम में एक क्षत्रिय राजपरिवार में हुआ था। इनके पिता का नाम सिद्धार्थ और माता का नाम त्रिशला था। 30 वर्ष की आयु में महावीर स्वामी सत्य की खोज में घर-परिवार छोड़ निकल पड़े। 12 वर्ष की कठिन तपस्या के बाद जम्भिय ग्राम के निकट ऋजुपालि की सरिता के तट पर इन्हें कैवल्य की प्राप्ति हुई। इन्द्रियों को जीतने के कारण ये जिन तथा महान पराक्रमी होने के कारण महावीर कहलाए। 30 वर्षों तक इन्होंने अपने धर्म का प्रचार किया और अंत में 72 वर्ष की आयु में राजगृह के समीप पावापुरी में इन्हें निर्वाण की प्राप्ति हुई। इनके जन्म व मृत्यु के समय में मतैक्य नहीं है। कुछ विद्वान इनका जन्म 540 ईसा पूर्व और कुछ 599 ईसा पूर्व मानते हैं। कुछ विद्वान इनकी मृत्यु 468 ईसा पूर्व और कुछ 527 ईसा पूर्व मानते हैं।
शिक्षाएं: जैन धर्म के अनुसार ईश्वर सृष्टिकर्ता नहीं है। सृष्टि अनादि काल से विद्यमान है। संसार के सभी प्राणी अपने-अपने संचित कर्मों के अनुसार फल भोगते हैं। कर्म फल ही जन्म-मृत्यु का कारण है। कर्म फल से छुटकारा पाकर ही व्यक्ति निर्वाण की ओर अग्रसर हो सकता है। जैन धर्म में संसार दु:खमूलक माना गया है। दु:ख से छुटकारा पाने के लिए संसार का त्याग आवश्यक है। कर्म फल से छुटकारा पाने के लिए त्रिरत्न का अनुशीलन आवश्यक बताया गया है।
त्रिरत्न: सम्यक ज्ञान, सम्यक दर्शन व सम्यक आचरण जैन धर्म के त्रिरत्न हैं। सम्यक ज्ञान का अर्थ है शंका विहीन सच्चा व पूर्ण ज्ञान। सम्यक दर्शन का अर्थ है सत् तथा तीर्थंकरों में विश्वास। सांसारिक विषयों से उत्पन्न सुख-दु:ख के प्रति समभाव सम्यक आचरण है। जैन धर्म के अनुसार त्रिरत्नों का पालन करके व्यक्ति जन्म-मरण के बंधन से मुक्त हो सकता है और मोक्ष को प्राप्त कर सकता है। त्रिरत्नों के पालनार्थ आचरण की पवित्रता पर विशेष बल दिया गया है। इसके लिए पांच महाव्रतों का पालन जरूरी बताया गया है।
पंचमहाव्रत
1: अहिंसा: जैन धर्म में अहिंसा संबंधी सिद्धान्त प्रमुख है। मन, वचन तथा कर्म से किसी के प्रति असंयत व्यवहार हिंसा है। पृथ्वी के समस्त जीवों के प्रति दया का व्यवहार अहिंसा है।
2: सत्य: जीवन में कभी भी असत्य नहीं बोलना चाहिए। क्रोध व मोह जागृत होने पर मौन रहना चाहिए। जैन धर्म के अनुसार भय अथवा हास्य-विनोद में भी असत्य नहीं बोलना चाहिए।
3: अस्तेय: चोरी नहीं करनी चाहिए और न ही बिना अनुमति के किसी की कोई वस्तु ग्रहण करनी चाहिए।
4: अपरिग्रह: किसी प्रकार के संग्रह की प्रवृत्ति वर्जित है। संग्रह करने से आसक्ति की भावना बढ़ती है। इसलिए मनुष्य को संग्रह का मोह छोड़ देना चाहिए।
5: ब्रह्मचर्य: इसका अर्थ है इन्द्रियों को वश में रखना। ब्रह्मचर्य का पालन भिक्षुओं के लिए अनिवार्य माना गया है।
महत्वपूर्ण बिन्दु
महावीर स्वामी सभी चेतन प्राणियों में आत्मा का अस्तित्व मानते हैं। प्रत्येक जीव में आत्मा स्थायी अजर-अमर होती है। मृत्यु हो जाने पर उसकी आत्मा नया शरीर धारण कर लेती है। जैन धर्म कर्म की प्रधानता में विश्वास करता है। जैन दर्शन मे कर्म बंधन तीन बलों- मन बल, वचन बल व कार्य बल के द्वारा स्वीकार किया गया है। मन के विचार से ही शुभ-अशुभ कर्मों का बंधन हो जाता है। तपस्या व अहिंसा पर अधिक बल दिया जाता है। इस धर्म में तीर्थंकरों को सर्वाधिक महत्व दिया है। जैन धर्म वेदों को प्रामाणिक नहीं मानता तथा कर्मकाण्डों का विरोधी है। धर्म में पंचपरमेष्टि को माना गया है, अर्हत, सिद्ध, आचार्य, उपाध्याय और साधु पंचपरमेष्टि हैं, अत: इनकी पूजा आवश्यक है। जैन धर्म के अनुसार जीवन का अंतिम लक्ष्य निर्वाण है। निर्वाण के द्वारा ही मनुष्य जन्म-मरण के बंधन से मुक्त होता है।
प्रमुख संप्रदाय
महावीर स्वामी के निर्वाण के पश्चात उनकी शिक्षा को लेकर जैन धर्म दो संप्रदायों में वि•ाक्त हो गया। एक मत ‘श्वेताम्बर’ कहलाया जिसके जिसके समर्थक स्थूलभद्र हुए और दूसरा मत ‘दिगम्बर’ कहलाया जिसके समर्थक भद्रबाहु हुए। इनमें कुछ भेद हैं। श्वेताम्बर श्वेत वस्त्र धारण करते थे जबकि दिगम्बर महावीर स्वामी की तरह वस्त्रहीन रहते थे। श्वेताम्बर स्त्री के लिए मोक्ष संभव मानते थे जबकि दिगम्बर इसके विरुद्ध थे। श्वेताम्बर ज्ञान प्राप्ति के बाद भोजन ग्रहण करने में विश्वास रखते थे, जबकि दिगम्बर के अनुसार आदर्श साधु को भोजन ग्रहण नहीं करना चाहिए। श्वेताम्बर जैन अगमों- अंग, उपांग, प्रकीर्णक, वेदसूत्र, मूलसूत्र तथा अन्य में विश्वास करते थे जबकि दिगम्बर केवल 14 पूर्वों में विश्वास करते थे। श्वेताम्बर के अनुसार महावीर ने यशोदा से विवाह किया जबकि दिगम्बर के अनुसार विवाह नहीं किया। श्वेताम्बर 19वें तीर्थंकर मल्लिनाथ को स्त्री मानते हैं जबकि दिगम्बर पुरुष। श्वेताम्बर पार्श्वनाथ के अनुयायी थे जबकि दिगम्बर महावीर स्वामी के।
इन मतभेदों के बाद भी दोनों संप्रदायों का दार्शनिक आधार एक ही है। श्वेताम्बर संप्रदाय के प्रमुख आचार्य सिद्धसेन, दिवाकर, हरिभद्र, स्थूलभद्र आदि थे। दिगम्बर संप्रदाय के प्रमुख आचार्य भद्रबाहु, नेमिचंद, ज्ञानचंद, विद्यानंद आदि थे।

keyword: jain dharm

Post a Comment

  1. Thank you sir for sharing such great knowledge with us. You may also visit our website. The link given below.
    News about Jain Dharm

    ReplyDelete

gajadhardwivedi@gmail.com

 
Top