1
ज्योतिष शास्त्र और अध्यात्म ज्योतिष शास्त्र और अध्यात्म

विश्व के सभी विद्वान वैदिक वाङ्मय की प्राचीनता, श्रेष्ठता तथा वैज्ञानिकता पर आम सहमति रखते हैं। तत्वदर्शी ऋषियों ने प्राचीन काल से ही संपूर्...

Read more »

2
जब मनौती भूल जाएं तो क्या करें जब मनौती भूल जाएं तो क्या करें

आजकल प्राय: हर वर्ग के लोग अपेक्षितमनोकामनाओं की पूर्ति के लिए किसी देवता,तीर्थ अथवा देवस्थान से मनौत्ी करता है कि हमारीअमुक कामना की पूर...

Read more »

2
बहुदेववाद में समाया है एकेश्वरवाद बहुदेववाद में समाया है एकेश्वरवाद

हिन्दू धर्म पर एक सबसे बड़ा आक्षेप लगाया जाता रहा है कि इसमें अनेक देवी-देवता हैं। संसार का सबसे पुराना धर्म होते हुए इसमें एक बात पर सहम...

Read more »

2
तैंतीस कोटि देवताओं का रहस्य तैंतीस कोटि देवताओं का रहस्य

हिन्दू धर्म में अनेक देवी-देवताओं की मान्यता है। ब्रह्मा, विष्णु, महेश तीन प्रधान देवता हैं। दुर्गा, लक्ष्मी, सरस्वती, पार्वती देवियां एव...

Read more »

2
कालसर्प दोष के कारण शापित होता है जन्मांक कालसर्प दोष के कारण शापित होता है जन्मांक

राहु व केतु के बीच जब सभी ग्रह आ जाते हैं तो कालसर्पयोग बनता है। राहु का स्थान वैदिक वांग्मय के आधार पर व चुम्बकीय आधार पर दक्षिण दिशा है। ठ...

Read more »

1
पंचांग का पांचवां अंग है करण पंचांग का पांचवां अंग है करण

तिथि के आधे भाग को करण कहते हैं। यह पंचांग का पांचवां अंग है। पंचांग के पांच अंग हैं- तिथि, वार, नक्षत्र, योग व करण। एक तिथि में दो करण होते...

Read more »

0
चन्द्रग्रहण रच रहा तबाही का कुचक्र चन्द्रग्रहण रच रहा तबाही का कुचक्र

बृहस्पति के वृष में प्रवेश के समय से शुरू हुआ उत्पात थमने का नाम नहीं ले रहा हैं। इसी बीच इस वर्ष का एकमात्र दृश्य चंद्रग्रहण पृथ्वी पर तबा...

Read more »

8
मध्य काल में हुआ प्रोटेस्टेंट मत का उदय मध्य काल में हुआ प्रोटेस्टेंट मत का उदय

यूरोप में सर्वप्रथम जन जागृति का उदय इटली में हुआ और वहां से वह यूरोप के अन्य देशों में फैला। धार्मिक बंधनों के विरुद्ध व्यक्ति, समाज और राष...

Read more »

1
राहु काल में न करें शुभ कार्यों का आरंभ राहु काल में न करें शुभ कार्यों का आरंभ

  राहु काल में न करें शुभ कार्यों का आरंभ आजकल सभ लोग खासकर दक्षिण व मध्य भारत के लोग राहु काल को बहुत महत्व देने लगे हैं। राहुकाल में विव...

Read more »

0
गौरी साधना शीघ्र विवाह में हेतु गौरी साधना शीघ्र विवाह में हेतु

जातक जिस मंत्र की साधना करना चाहता हो, उसका तथा साधना करने वाले के नाम का पहला अक्षर दोनों यदि एक ही कुल के हों तो वह मंत्र निश्चित फल देने ...

Read more »

0
आदिशक्ति के साथ अन्नपूर्णा की भी होती है पूजा आदिशक्ति के साथ अन्नपूर्णा की भी होती है पूजा

नवरात्र के नौ दिन हिंदू घरों में शैलपुत्री और ब्रह्मचारिणी से लेकर कालरात्रि, महागौरी और सिद्धिदात्रि तक आदिशक्ति के अलग-अलग रूपों की पूजा क...

Read more »

6
नौ दिन व नौदुर्गा ही क्यों नौ दिन व नौदुर्गा ही क्यों

रूपक के अनुसार हमारे शरीर को नौ मुख्य द्वारों वाला कहा गया है। इसके अंदर निवास करने वाली जीवनी शक्ति को दुर्गा कहा गया है। इन नौ दरवाजों या...

Read more »

2
संधिकाल की चुनौतियों से निपटने में सक्षम बनाता है नवरात्र संधिकाल की चुनौतियों से निपटने में सक्षम बनाता है नवरात्र

नवरात्र दो ऋतुओं का संधिकाल है। इन नौ दिनों का संयम व्यक्ति को संधिकाल की चुनौतियों से निपटने में सक्षम बनाता है। इस समय को आयुर्वेद में ‘यम...

Read more »

2
कष्टों के निवारण का सुगम उपाय है नवार्ण मंत्र कष्टों के निवारण का सुगम उपाय है नवार्ण मंत्र

नवार्ण मंत्र- ‘ऊं ऐं ह्रीं क्लीं चामुण्डायै विच्चे’ की शक्ति अपार है। इसमें मां जगदम्बा की शक्ति समाई हुई है। इसका अनुष्ठान करने वाले साधक क...

Read more »

1
अपनी राशि के अनुसार करें मां की उपासना अपनी राशि के अनुसार करें मां की उपासना

नवरात्र शक्ति पूजा का पर्व है। इस दौरान आत्म शक्ति जागरण के लिए उपासना की जाती है। यदि साधक अपनी राशि के अनुसार सम्बद्ध मंत्र का जप करे तो उ...

Read more »

1
शक्ति उपासना से दूर होते हैं ग्रह दोष शक्ति उपासना से दूर होते हैं ग्रह दोष

मां दुर्गा साधक की उपासना से प्रसन्न होकर बाधक बन रहे ग्रह दोषों को दूर कर देती हैं। उपासक (साधक) के जीवन में खुशहाली आती है। दुर्गा का प्रथ...

Read more »

1
देवी का पवित्र पर्व काल है नवरात्र देवी का पवित्र पर्व काल है नवरात्र

नवरात्र 11 अप्रैल से, महाष्टमी व्रत 18 अप्रैल को रामनवमी 19 अप्रैल को, इसी दिन होगा हवन अशुद्धि में भी की जा सकती है देवी पूजा चैत्र शुक्ल...

Read more »

0
संपूर्ण वर्ष की सर्वोत्तम तिथि है चैत्र शुक्ल प्रतिपदा संपूर्ण वर्ष की सर्वोत्तम तिथि है चैत्र शुक्ल प्रतिपदा

नूतन संवत्सर चैत्र शुक्ल प्रतिपदा से शुरू होता है। 11 अप्रैल बृहस्पतिवार को चैत्र शुक्ल प्रतिपदा है। इस दिन मुख्यतया ब्रह्माजी और उनके द्...

Read more »

0
ग्रहों की चाल से नव संवत्सर में आ सकती है मंदी ग्रहों की चाल से नव संवत्सर में आ सकती है मंदी

10 अप्रैल 2013 से सिंह लग्न में नव विक्रम सम्वत् का शुभारंभ हो रहा है। वर्ष प्रवेश लग्न का स्वामी सूर्य अष्टम भाव में पंचग्रही युति में स्थि...

Read more »

0
भारतीय नववर्ष तथा वासंतिक नवरात्र 11 से भारतीय नववर्ष तथा वासंतिक नवरात्र 11 से

अखिल भारतीय विद्वत महासभा की ओर से बताया गया कि भारतीय नववर्ष तथा वासंतिक नवरात्र की शुरुआत 11 अप्रैल से होगी। इस वर्ष नवरात्र नौ दिन का हो...

Read more »

4
ईश्वरीय आनंद की अनुभूति के लिए पोप के प्रमाण पत्र की आवश्यकता नहीं ईश्वरीय आनंद की अनुभूति के लिए पोप के प्रमाण पत्र की आवश्यकता नहीं

मध्य युग और आधुनिक युग के संधिकाल का इतिहास धार्मिक परंपरा और प्रभुत्व के क्रमिक ह्रास का तथा व्यक्ति और समाज की स्वतंत्रता एवं भौतिक विज्ञा...

Read more »

0
इन्द्रियानुभव व विज्ञान की दुदुंभी बजाने वाले हैं फ्रांसिस बेकन इन्द्रियानुभव व विज्ञान की दुदुंभी बजाने वाले हैं फ्रांसिस बेकन

इंगलैण्ड में आधुनिक युग के प्रथम महत्वपूर्ण दार्शनिक हैं फ्रांसिस बेकन। इनका कार्यकाल 1561 एडी से 1626 एडी तक था। इनके पिता सर निकोलस बेकन ए...

Read more »

2
प्रत्येक राशि वालों का गुण व स्वभाव प्रत्येक राशि वालों का गुण व स्वभाव

प्रतिदिन लगभग 24 घंटे पर लग्न परिवर्तन हो जाता है। कुल 12 राशियां होती हैं, इसी प्रकार 24 घंटे में 12 लग्नों का भोग काल होता है। जो जिस लग्...

Read more »
 
Top