0
भगवान शिव भोले बाबा हैं, वह बड़ी सरलता से प्रसन्न हो जाते हैं। छोटे-छोटे उपायों से बहुत सी विघ्न-बाधाएं दूर हो जाती हैं। भगवान शिव को चावल चढ़ाने से धन की प्राप्ति होती है। तिल चढ़ाने से पापों का नाश होता है। जौ अर्पित करने से सुख व गेहूं चढ़ाने से संतान की वृद्धि होती है। ये सभी अन्न भगवान को अर्पित करने के बाद गरीबों में बांट देना चाहिए। शिव पुराण के अनुसार बुखार होने पर भगवान शिव को जल चढ़ाने से शीघ्र लाभ मिलता है। सुख व संतान की वृद्धि के लिए भी जल द्वारा शिव की पूजा उत्तम बताई गई है। तेज दिमाग के लिए शक्कर मिला दूध चढ़ाना चाहिए। गन्ने का रस चढ़ाने से आनंद की प्राप्ति होती है। गंगा जल चढ़ाने से भोग व मोक्ष दोनों मिलता है। शहद से भगवान शिव का अभिषेक करने से टीबी रोग में आराम मिलता है। गाय के शुद्ध घी से भगवान शिव का अभिषेक करने पर शारीरिक कमजोरी दूर होती है। यदि विवाह में अड़चन आ रही है तो सावन में रोज शिवलिंग पर केसर मिला दूध चढ़ाएं। इससे जल्दी ही विवाह के योग बन सकते हैं। सावन में रोज नंदी (बैल) को हरा चारा खिलाएं। इससे जीवन में सुख-समृद्धि आएगी और मन प्रसन्न रहेगा। गरीबों को भोजन कराने से घर में कभी अन्न की कमी नहीं होगी तथा पितरों की आत्मा को शांति मिलेगी। सावन में रोज सुबह जल्दी उठकर स्नान आदि कर समीप स्थित किसी शिव मंदिर में जाएं और भगवान शिव का जल से अभिषेक करें और उन्हें काले तिल अर्पित करें। इसके बाद मंदिर में कुछ देर बैठकर मन में 'ऊं नम: शिवायÓ मंत्र का जाप करें। इससे मन को शांति मिलेगी।
-पं. नरेंद्र उपाध्याय, ज्योतिर्विद

Keywords: shiv, savan

नोट- इस वेबसाइट की अधिकांश फोटो गूगल खोज से ली गई हैं, यदि किसी फोटो पर किसी को कॉपीराइट विषय पर आपत्ति है तो सूचित करें, वह फोटो हटा दी जाएगी।

Post a Comment

gajadhardwivedi@gmail.com

 
Top